01-Sep-2011



कुछ टूटता सा
महसूस हो रहा है ,
अन्दर कुछ
काप रहा है
मन अशांत है,
ढूँढने वाले इसमें
करुणा भी ढूँढ़ लेंगे 
भय भी
साहस भी
और किसी सीमा तक
भविष्य भी....

No comments: