15-Mar-2012

 छुट कर भी
 नहीं छूटते
 कुछ रिश्ते 
जीवन में,
 हमेशा कुछ 
गांठों को 
खोलने के
 फिराक में 
रहता हूँ
लेकिन हर
 गाँठ के साथ 
डोर छोटी होती
चली गयी.....
 

No comments: