14-May-2012


                   दीवार पर कितनी
                   मासूमियत लिए बैठी है,
                   मन भीगा हुआ है
                   लबों पर प्रेम की
                   भावुक अभिव्यक्ति है
                   जिसे शायद व्यक्त करना
                   चाह तो रही है पर,
                   प्रेम के स्फुटन को सामने
                   लाने से हिचक रही है|
                   कभी-कभी अपलक
                   देखने लगता हूँ उसे,
                   वो बार-बार नजर
                   आ जाती है पर चुप
                   शायद सोचती है की
                   प्रेम में जो गोपन है
                   वही मुखर है
                   मैं व्याकुल हो उठता हूँ
                   और वो नजरों से
                   दूर चली जाती है सुदूर में...
                   पलक जो कहीं
                   झपक भी जाती है
                   तो मैं उठ बैठता हूँ
                   कहीं मुझे सोया
                   देख कर वो
                   चली न जाए ....
                   सपने और सच
                   की जुगलबंदी
                   यूँ ही बदस्तूर जारी है .......
                   अभी भी जग रहा हूँ
                   उसी के इन्तजार में |

2 comments:

सर्वेश दुबे said...

Itni bhaukta thik nahi .
jivan me kuchh aur kuchh aur chamatkar Aana baki hai ...

Ambrish Singh Baghel said...

धन्यवाद !!