24-May-2012

         माँ तेरी गोद में सर रख कर
         सो लेना चाहता हूँ
         कई सदियों से
         आँखें जल रही हैं
         तेरी आँचल में छुप कर
         जी भर के
         रो लेना चाहता हूँ
         तेरे स्नेह भरे हाथों का
         स्पर्श चाहता हूँ
        माँ मैं थोड़ा सा
        जी लेना चाहता हूँ...

No comments: